12वीं में प्रथम श्रेणी से पास 8,428 में से 5,838 स्टूडेंट्स काे सरकारी कॉलेज में नहीं मिलेगा प्रवेश

12वीं में प्रथम श्रेणी से पास 8,428 में से 5,838 स्टूडेंट्स काे सरकारी कॉलेज में नहीं मिलेगा प्रवेश

12वीं में प्रथम श्रेणी से पास 8,428 में से 5,838 स्टूडेंट्स काे सरकारी कॉलेज में नहीं मिलेगा प्रवेश


12वीं में प्रथम श्रेणी से पास 8,428 में से 5,838 स्टूडेंट्स काे सरकारी कॉलेज में नहीं मिलेगा प्रवेशजिले की सभी 9 सरकारी कॅालेज में प्रथम वर्ष में आवंटित 2 हजार 590 सीटें पर आवेदन प्रक्रिया शनिवार काे शुरू हाेगी। 12वीं...
जिले की सभी 9 सरकारी कॅालेज में प्रथम वर्ष में आवंटित 2 हजार 590 सीटें पर आवेदन प्रक्रिया शनिवार काे शुरू हाेगी। 12वीं के बाद काॅलेज में प्रवेश काे लेकर आवेदन प्रक्रिया का इंतजार कर रहे स्टूडेंट्स काे इस बार प्रवेश के लिए काफी संघर्ष करना पड़ सकता है, क्याेंकि इस बार 12वीं बाेर्ड में तीनाें संकायों में 16 हजार 448 स्टूडेंट्स उत्तीर्ण हुए। इनमें से 8 हजार 428 स्टूडेंट्स काे फर्स्ट डिवीजन लेकर अाए। एेसे में 2 हजार 590 सीटें ही हाेने के चलते फर्स्ट डिवीजन के अंक लाने वाले 5 हजार 838 स्टूडेंट्स काे भी प्रवेश से वंचित रहना पड़ेगा। यानी, जिले की 9 सरकारी काॅलेजाें की 2 हजार 590 सीटें पर प्रवेश काे लेकर 1 सीट पर 6 से अधिक स्टूडेंट्स कतार में है। एेसे में प्रथम वर्ष में प्रवेश के लिए 70 फीसदी से अधिक मेरिट जाने की पूरी संभावना है। गाैरतलब है कि 1 जून से काॅलेजाें में प्रवेश काे लेकर अाॅनलाइन आवेदन भरे जाएंगे। इसके बाद 18 जून काे प्रथम प्रवेश सूची का प्रकाशन किया जाएगा। स्टूडेंट्स काे ई-मित्र के माध्यम से फीस भरनी हाेगी।

सरकारी कॉलेजों में प्रथम वर्ष में 2 हजार 590 सीटें ही प्रवेश के लिए अावंटित

जिले में 9 सरकारी काॅलेज

पाली में बांगड़ व गर्ल्स काॅलेज के अलावा जिले में जैतारण, रायपुर, साेजत, मारवाड़ जंक्शन, राेहट, सुमेरपुर व बाली सरकारी काॅलेज हैं। इनमें कला, वाणिज्य व विज्ञान वर्ग काे मिलाकर प्रथम वर्ष में प्रवेश के लिए 2 हजार 590 सीटें ही हैं।

तीनाें संकायों में 8 हजार 428 स्टूडेंट्स प्रथम श्रेणी से हुए उत्तीर्ण

वािणज्य

1240

स्टूडेंट्स हुए पास

सैंकंड व थर्ड रहने वालाें को प्रवेश नहीं

तीनाें संकायों में 12वीं बाेर्ड में द्वितीय व तृतीय श्रेणी से पास हाेने वाले स्टूडेंट्स काे काॅलेज में प्रवेश नहीं मिलेगा। यानी, उनकाे किसी अन्य जिलों में प्रवेश के लिए जाना हाेगा या फिर निजी काॅलेजाें में प्रवेश लेना हाेगा।

सीटें बढ़ाने पर ही प्रवेश : हर साल स्टूडेंट्स की मांग पर प्रदेशभर में 20 फीसदी सीटें बढ़ाई जाती हैं, लेकिन इसके लिए स्थाई काेई व्यवस्था नहीं की जाती है।

674

फर्स्ट ग्रेड से पास

विज्ञान

4636

स्टूडेंट्स हुए पास

12वीं में 16,448 स्टूडेंट्स उत्तीर्ण

8 हजार 428 स्टूडेंट फर्स्ट डिवीजन हैं। यानी, 1 सीट के लिए 6 से अधिक कतार में। 12वीं बाेर्ड के कला वर्ग, वाणिज्य व विज्ञान वर्ग काे मिलाकर कुल 16 हजार 448 स्टूडेंट पास हुए। इनमें से 8 हजार 428 स्टूडेंट्स फर्स्ट डिवीजन वाले हैं।

3173

फर्स्ट ग्रेड से पास

कला

10572

स्टूडेंट्स हुए पास

अाॅनलाइन प्रवेश प्रक्रिया का यह रहेगा पूरा कार्यक्रम

सीटें खाली रही ताे :
4581

फर्स्ट ग्रेड से पास

जिले की कॉलेजों में सीटों की स्थिति

कॉलेज कला वािणज्य विज्ञान

बांगड़ 400 240 140

गर्ल्स 80 160 -

सुमेरपुर 80 80 70

सोजत 240 80 140

जैतारण 160 80 -

रायपुर 160 - -

मारवाड़ 160 - -

रोहट 160 - -

बाली 160 - -

0 Response to "12वीं में प्रथम श्रेणी से पास 8,428 में से 5,838 स्टूडेंट्स काे सरकारी कॉलेज में नहीं मिलेगा प्रवेश"

Post a Comment

प्रेरकप्रसंग

latest